GautambudhnagarGreater Noida

उत्तर प्रदेश विधान परिषद की दैवीय आपदा प्रबन्धन जांच समिति के माननीय सभापति की अध्यक्षता में गौतम बुद्ध नगर, गाजियाबाद व हापुड़ के अधिकारियों के साथ बैठक सम्पन्न

उत्तर प्रदेश विधान परिषद की दैवीय आपदा प्रबन्धन जांच समिति के माननीय सभापति की अध्यक्षता में गौतम बुद्ध नगर, गाजियाबाद व हापुड़ के अधिकारियों के साथ बैठक सम्पन्न

आपदा से प्रभावित लोगों को तत्काल आर्थिक सहायता उपलब्ध कराने के माननीय सभापति ने सम्बन्धित अधिकारियों को दिए आवश्यक दिशा निर्देश

आपदाओं को लेकर जनपद में समय-समय पर एडवाइजरी की जाये जारी। सभापति

शफी मौहम्मद सैफी

गौतमबुद्धनगर।आपदा से प्रभावित लोगों को तत्काल आर्थिक सहायता उपलब्ध कराने के उद्देश्य से उत्तर प्रदेश विधान परिषद की दैवीय आपदा प्रबन्धन जांच समिति के माननीय सभापति उमेश द्विवेदी की अध्यक्षता में आज इंटरनेशनल गेस्ट हाउस गौतमबुद्ध यूनिवर्सिटी के ऑडिटोरियम में जनपद गौतमबुद्धनगर, गाजियाबाद, हापुड़ के प्रशासनिक अधिकारियों की बैठक हुई, जिसमें उत्तर प्रदेश विधान परिषद दैवीय आपदा प्रबन्धन जांच समिति के सदस्यगण उपस्थित रहे।आयोजित बैठक में सभापति ने सम्बंधित अधिकारियों से बाढ़ से प्रभावित क्षेत्रों एवं वर्ष 2021 से अब तक महामारी, बाढ, सर्पदंश एवं अन्य दैवीय आपदा से प्रभावित पीड़ितों को उपलब्ध करायी गयी राहत राशि के बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त करते हुए कहा कि इस प्रकार कार्ययोजना बनायी जाये कि भविष्य में बाढ़ से सर्वाधिक प्रभावित क्षेत्रों में कम से कम जनहानि तथा प्रभावित लोगों को शासन द्वारा दी जाने वाली आर्थिक सहायता शीघ्रता से उपलब्ध हो जाये। उन्होंने सम्बंधित अधिकारियों से बाढ़, अतिवृष्टि एवं अन्य दैवीय आपदा से प्रभावित लोगों को उपलब्ध करायी गयी सहायता राशि की सूची उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। उन्होंने आपदा से प्रभावित लोगों को तत्काल आर्थिंक सहायता उपलब्ध कराने तथा आपदा के कारण जिन लोगों आर्थिक नुकसान हुआ है ऐसे लोगों को उपलब्ध करायी गयी सहायता राशि की सूची उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। उन्होंने नदियों के क्षेत्र व आस-पास के घाटों में डुबकर हुई जनहानि के बारे में जानकारी लेते हुए निर्देशित किया कि घाटों में ऐसी व्यवस्था की जाये कि डुबने के कारण किसी भी प्रकार की जनहानि न हो। घाटों के आस-पास पब्लिक एड्रेस सिस्टम के माध्यम से लोगों के लिए लगातार आवश्यक सूचनाएं प्रसारित करायी जाती रहे। इसके साथ ही उन्होंने घाटों पर सुरक्षा के दृष्टिगत गोताखोरों की सिफ्ट वाइज ड्यूटी लगाये जाने के साथ बिना लाइफ जैकेट की उपलब्धता के कोई भी नाव का संचालन न हो यह सुनिश्चित किया जाये। सभापति ने सर्पदंश से जनहानि की समीक्षा करते हुए कहा कि ऐसे क्षेत्रों को चिन्हित किया जाये, जहां पर सर्पदंश की अधिक घटनाएं सामने आती है। उन क्षेत्रों में सर्प दंश की घटनाओं को रोकने के लिए प्रभावी उपाय सुनिश्चित किया जाये। उन्होंने सम्बंधित अधिकारियों से कहा कि सर्पदंश के सम्बंध में आमजन को जागरूक करने के लिए ‘‘क्या करें क्या न करें’’ इसका विभिन्न माध्यम से व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाये तथा सर्पदंश से मृतक के परिजनों को जागरूक किया जाये कि मृतक का पोस्टमार्टम होने पर ही सरकार द्वारा दी जाने वाली आर्थिंक सहायता उपलब्ध करायी जा सकती है। सभापति ने जनपदों के मुख्य चिकित्साधिकारी को जनपद के जिला अस्पताल एवं सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में सर्पदंश से बचाव के इंजेेक्शन सहित सभी आवश्यक दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित रखने के निर्देश दिए। इसके साथ ही उन्होंने अस्पतालों में सर्पदंश की स्थिति में ‘‘क्या करें क्या न करे’’ विषयक बोर्ड लगवाने के भी निर्देश दिए। उन्होंने पुलिस अधिकारियों से कहा कि सर्पदंश के मामलों में पुलिस तत्काल मौके पर पहुंचकर मृतक व्यक्ति का पोस्टमार्टम जरूर करायें ताकि परिजनों को आर्थिंक सहायता उपलब्ध हो सके। उन्होंने सरकारी अस्पतालों में उपकरणों की उपलब्धता की जानकारी प्राप्त करते हुए कहा कि आवश्यकतानुसार उपकरणों की मांग शासन से कर लिया जाये तथा चिकित्सकों की उपलब्धता एवं उपकरण की उपलब्धता की सूची उन्हें उपलब्ध करायी जाये। उन्होंने संचारी रोगों के नियंत्रण एवं बचाव के लिए किए जा रहे कार्यों की विस्तृत समीक्षा करते हुए कहा कि सभी सम्बंधित विभाग आपसी समन्वय बनाकर अपने कार्यों का निर्वहन करें एवं नगरों व गांवों में साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दिया जाये। उन्होंने ग्रामीण क्षेत्रों में कार्य में लापरवाही बरतने वाले सफाई कर्मिंयों को चिन्हित करने के लिए कहा है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि सफाई कर्मिंयों से बेसिक शिक्षा विभाग के विद्यालयों की शौचालयों की नियमित रूप से साफ-सफाई करायी जाये। सभापति ने ऊर्जा विभाग की समीक्षा के दौरान जर्जर तारों को बदलने की कार्यवाही सुनिश्चित करने के निर्देश दिए, जिससे बिजली के जर्जर तारों के कारण आग लगने की घटनाएं न हो सके। उन्होंने बिजली के खम्भों को मानक के अनुसार ही गड्ढ़े की खुदायी कर लगाये जाने के लिए कहा है। उन्होंने बिजली विभाग के अधिकारियों को गलत बिजली बिल से सम्बंधित शिकायत पर गम्भीरता के साथ कार्यवाही करने के लिए कहा है, जिससे उपभोक्ताओं को गलत विद्युत बिल से सम्बंधित समस्याओं का सामना न करना पड़े। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि संविदा विद्युत कर्मिंयों को समुचित प्रशिक्षण दिलाया जाये। बैठक में बताया गया कि कार्य के दौरान संविदा कर्मीं की विद्युत से मृत्यु होने की दशा में परिजनों को अनुमन्य आर्थिंक सहायता उपलब्ध करायी जाती है।
सभापति ने पीडब्लूडी के अधिकारियों से बाढ़ से क्षति ग्रस्त होने वाले राजमार्गों की स्थिति के बारे में जानकारी ली और कहा कि जहां पर भी बाढ़ से बार-बार कोई रोड़ खराब होती है। उन सड़कों को चिन्हित कर लें साथ ही जहां पर भी पानी भराव के कारण सड़क खराब होती है। उन सड़कों को भी चिन्हित कर उन सड़कों को अन्य तकनीकी से बनाया जाये, जिससे सड़के खराब न हो। उन्होंने कृषि विभाग के अधिकारियों से प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के बारे में जानकारी ली। उन्होंने कहा कि जिन लाभार्थिंयों का अभी तक केवाईसी नहीं हुआ है ऐसे लोगो का जल्द से जल्द केवाईसी अपडेट करना सुनिश्चित करें। आयोजित बैठक में जिला प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा माननीय समिति को आश्वस्त करते हुए कहा कि बैठक में समिति द्वारा जो भी दिशा निर्देश दिए गए हैं उसका शत-प्रतिशत अनुपालन सुनिश्चित किया जाएगा। आयोजित बैठक में अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व अतुल कुमार, प्रभारी अधिकारी आपदा विवेकानंद मिश्र एवं संबंधित अधिकारीगण उपस्थित रहे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button