GautambudhnagarGreater Noida

मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश दुर्गा शंकर मिश्र द्वारा पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टिट्यूट ऑफ़ चाइल्ड हेल्थ सेक्टर 30 नोएडा का किया गया स्थलीय निरीक्षण

मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश दुर्गा शंकर मिश्र द्वारा पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टिट्यूट ऑफ़ चाइल्ड हेल्थ सेक्टर 30 नोएडा का किया गया स्थलीय निरीक्षण

निरीक्षण के उपरांत संबंधित वरिष्ठ अधिकारियों, शासी निकाय सदस्यों एवं वित्त विभाग के अधिकारियों के साथ की गयी बैठक।

शफी मौहम्मद सैफी

ग्रेटर नोएडा।उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव/संस्थान के अध्यक्ष दुर्गा शंकर मिश्र द्वारा विगत दिवस पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टिट्यूट ऑफ़ चाइल्ड हेल्थ सेक्टर 30 नोएडा में किया स्थलीय निरीक्षण किया गया। निरीक्षण उपरांत मुख्य सचिव की अध्यक्षता में शासी निकाय की महत्वपूर्ण बैठक आयोजित की गई, जिसमें प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा पार्थ सारथी सेन शर्मा, जिलाधिकारी गौतम बुद्ध नगर मनीष कुमार वर्मा, संस्थान के निदेशक प्रोफेसर डॉक्टर एके सिंह, प्रोफेसर डीके सिंह, सीएमएस डॉक्टर मुकुल सेन, शासी निकाय के अन्य सदस्य, वित्त विभाग के अधिकारीगण उपस्थित रहे।मुख्य सचिव द्वारा निरीक्षण के दौरान भर्ती वार्ड, पैथोलाजी, माइक्रोबायोलाजी लैब में होने वाले कार्य अवलोकन का किया। ओपीडी, आइपीडी, इमरजेंसी के मरीजों का रिकार्ड चेक किया। इसमें बढ़ोतरी के लिए निर्देशित किया। उन्होंने कहा कि चूंकि संस्थान चिकित्सा शिक्षा विभाग के अधीन है। जहां इलाज के साथ पढ़ाई भी होती है। इसलिए जरूरी है कि संस्थान में बेहतर इलाज के लिए सीटी स्कैन मशीन और एमआरआइ मशीन होनी चाहिए। अभी चाइल्ड पीजीआइ में इलाज के लिए आए मरीजों को सेक्टर-39 जिला अस्पताल में सीटी स्कैन जांच के लिए भेजा जाता है। जहां मरीजों की निःशुल्क जांच होती है। लेकिन मरीजों को इसके लिए दो से तीन दिन का इंतजार करना पड़ता है। वहीं संस्थान में सीटी स्कैन लगाने का काम पूरा हो गया है। ऐसे में जांच शुरू होने से शिशु मरीजों को आसानी होगी। मरीज करीब 700 रुपये का भुगतान कर जांच करा सकेंगे। संस्थान में मशीन लगने से फायदा होगा। सही जांच के साथ समय पर जांच रिपोर्ट मिलेगी। पुरानी बिल्डिंग खाली हो चुकी है। इसकी मरम्मत कर समय से उपयोग में लाया जाए।मुख्य सचिव की अध्यक्षता में हुई शासी निकाय की बैठक में जिला अस्पताल की पुरानी बिल्डिंग का हैंडओवर मिलने के बाद नए विभाग बनाने के साथ जरूरी उपकरण लगाने से पूर्व कंस्ट्रक्शन और मरम्मत कार्य के लिए के प्रस्ताव को मंजूरी मिली। शासी निकाय ने कुछ विभागों में फैकल्टी, सीनियर और जूनियर रेजिडेंट्स के पदों के सृजन को मंजूरी दी, जिससे संस्थान में शैक्षणिक पाठ्यक्रमों के विस्तार और नए पाठ्यक्रमों में वृद्धि होगी। जन्मजात हृदय रोगों के लिए जरूरी संकाय और कर्मचारियों आवश्यकताओं को मंजूरी दी। उन्होंने बताया गया कि पीडियाट्रिक कार्डियोलाजी में उत्कृष्टता केंद्र के प्रथम चरण को शुरू करने में मदद मिलेगी।चाइल्ड पीजीआई में सीटी स्कैन से जांच शुरू की जाएंगी। वहीं पब्लिक प्राइवेट पीट पार्टनरशिप (पीपीपी) माडल से जल्द एमआरआइ मशीन भी लगाई जाएगी। संस्थान की शासी निकाय की बैठक में सीटी स्कैन, एमआरआइ जांच के साथ कई अन्य महत्वपूर्ण प्रस्तावों को मंजूरी मिली है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button