गौतमबुद्धनगरग्रेटर नोएडा

किसानों के बन्द से दिल्ली बॉर्डर पर पूरे दिन रहा जाम। यमुना एक्सप्रेस वे से परी चौक तक भाकियू के मेरठ मंडल अध्यक्ष पवन खटाना के नेतृत्व में किया गया प्रदर्शन।

किसानों के बन्द से दिल्ली बॉर्डर पर पूरे दिन रहा जाम।

यमुना एक्सप्रेस वे से परी चौक तक भाकियू के मेरठ मंडल अध्यक्ष पवन खटाना के नेतृत्व में किया गया प्रदर्शन।

शफ़ी मोहम्मद सैफी

ग्रेटर नोएडा।तीन कृषि कानून के विरोध में सोमवार को किसानों के बंद का असर नोएडा में भी देखने को मिला। बार्डर पर दिल्ली पुलिस वाहनों की जांच कर उनको अंदर आने दे रही थी। ऐसे में दिनभर चिल्ला, डीएनडी और कालिंदी कुंज रास्ते पर जाम की समस्या बनी रही। वहीं नोएडा-ग्रेनो एक्सप्रेसवे पर परी चौक के पास किसानों के सड़क पर बैठने के कारण जाम लगा।

दिल्ली पुलिस ने सुबह करीब आठ बजे से ही वाहनों की चेकिंग करनी शुरू कर दी थी। ऐसे में चिल्ला, डीएनडी व कालिंदी कुंज होकर दिल्ली जाने वाले वाहनों को रोककर दिल्ली की सीमा में प्रवेश दिया जा रहा था। ऐसे में सुबह करीब साढ़े आठ बजे से बार्डर के पास नोएडा के रास्तों पर जाम लगना शुरू हो गया। करीब 10 बजे के आसपास बार्डर पर एक से दो किलोमीटर तक वाहनों की लंबी लाइन लग गई। सबसे ज्यादा परेशानी डीएनडी व चिल्ला रास्ते पर हुई। वाहनों की कतार नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस वे पर सेक्टर-128 के पास तक पहुंच गई। रेंग-रेंग कर वाहन दिल्ली की सीमा में प्रवेश कर रहे थे। बार्डर पर जाम की वजह से वाहन नोएडा के दूसरे रास्तों से दिल्ली जाने लगा, ऐसे में उन रास्तों पर भी वाहनों का दबाव बढ़ गया। वाहन चालक सेक्टर-1 अशोक नगर व सेक्टर-11 झुंडपुरा होते हुए दिल्ली जाने लगे। शाम को चार बजे के बाद यातायात सामान्य हो सका। वहीं दूसरी तरफ नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे पर नोएडा से ग्रेटर नोएडा की ओर जाते समय परी चौक के पास किसान मुख्य रास्ते पर बैठ गए, इससे जाम गया।

यमुना एक्सप्रेसवे से परी चौक तक प्रदर्शन

भाकियू के मेरठ मंडल अध्यक्ष पवन खटाना के नेतृत्व में किसान यमुना एक्सप्रेसवे के ‘जीरो प्वाइंट’ पर जमा हुए और यहां से नारेबाजी करते हुए किसानों ने परी चौक की तरफ कूच किया, लेकिन पुलिस ने उन्हें वहां तक नहीं पहुंचने दिया। गलगोटिया यूनिवर्सिटी के पास बैरिकेड लगाकर पुलिस ने उन्हे रोक लिया, यहां पर किसान नेताओं की पुलिस से नोंक-झोंक भी हुई और किसान वहीं पर धरने पर बैठ गये। किसानों के सड़क पर बैठने के कारण कुछ देर के लिए जाम लग गया। इसके पश्चात पुलिस अधिकारियों ने किसान नेताओं को समझा-बुझाकर सड़क किनारे मेट्रो स्टेशन के नीचे बैठा दिया। जेवर टोल प्लाजा पर भाकियू नेता महेंद्र सिंह चौरौली के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने धरना-प्रदर्शन किया। भाकियू अंबावता के जिलाध्यक्ष राजेश उपाध्याय के नेतृत्व में किसानों ने सूरजपुर स्थित जिला कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन कर नए कृषि कानूनों का विरोध किया।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
×

Powered by WhatsApp Chat

×